Unnao Rape Case - उन्नाओ रपे पीड़िता को आरोपियों ने ज़िंदा जलाया |
Unnao Rape Case – उन्नाओ रपे पीड़िता को आरोपियों ने ज़िंदा जलाया |

एक तरफ प्रियंका रेड्डी के रपे कांड से पूरा देश आक्रोश में है और वही दूसरी तरफ एक नया हादसा सामने आया है | खबर आयी है के उन्नाओ की रपे पीड़िता को आरोपियों ने जिन्दा जलने की कोशिश की है | पीड़िता का लखनव के किंग जॉर्ज मेडिकल के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चालू है | वही बताया जा रहा है के आज गुरुवार को कोर्ट में इस मामले (Unnao Rape Case) पर सुनवाई थी | वही जब पीड़िता कोर्ट के लिए घर से निकली तब घर से कुछ ही दूर पीड़िता के साथ हुवा यह हादसा |

जानिए क्या हुवा है Unnao Rape Case की पीड़िता के साथ

उन्नाओ रपे केस में देखा जाये तो काफी सारे आरोपी है और जो मुख्या आरोपी है उसका नाम है कुलदीप सिंह सेंगर | वही पीड़िता के साथ समय समय पर काफी सारे लोगो ने भी रपे किया | आज उन्ही की सुनवाई थी | उसे लेकर पीड़िता कोर्ट में सुनवाई के लिए घर से निकली ही थी तो कुछ ही दुरी पर पीड़िता को कुछ लोगो ने घेर लिया | और साथ ही उसपर केरोसिन दाल कर उसे ज़िंदा जला डाला |

एक तरफ लोगो का रपे के खिलाफ देश भर में घुसा नज़र आ रहा है | और वही रपे की पीड़िता न्याय के लिए भीख मांगती नज़र आ रही है | गौर करने वाली एक बात है के देश में जो लोग कैंडल मार्च निकल रहे है वह सिर्फ मरी हुवी पीड़िता के लिए निकला जाए रहा है | मतलब जब तक पीड़िता ज़िंदा है उसको न्याय नहीं मिल सकता यही आज की परिस्थिति में दिखाई दे रहा है |

देखा जाए तो आज भी उन्नाओ रपे की पीड़िता और चिन्मयानन्द कांड की पीड़िता इन्साफ के लिए दर बा दर भटकती फिर रही है और न तो उनको इन्साफ मिल रहा है न ही उनका संघर्ष कामियाब होते नज़र आते दिखाई दे रहा है | आज पूरा देश जानता है के जो उन्नाओ रपे कांड का मुख्या आरोपी है के बचाओ में किन लोगो ने मार्च निकाली थी | रपे होने के २ साल बाद आरोपी को गिरफ्तार किया गया | साथ ही इस कांड में पीड़िता के पिताजी के साथ ही कही सारे लोगो की जान चली गयी |

नाथूराम गोडसे पर बयान के बाद प्रज्ञा ठाकुर का रक्षा मामलो की परामर्श समिति से नाम हटा दिया गया, पढ़िए पूरी खबर…

वही चिन्मयानन्द कांड में नज़र आया के एक नेता पर रपे का आरोप लगग के उन्होंने कही सारे लड़कियों का अपने ताकत के बलबूते पर यौनशोषण किया पर उत्तेर प्रदेश की पुलिस प्रशाशन भी चिन्मयानन्द के साथ कड़ी नज़र आयी थी तथा चिन्मयानन्द की रपे पीड़िता भी आज जेल में बंद है | और पीड़िता का कहना है के उसपर जो भी आरोप लगाए गए है वह सब झूठे है \ और साथ ही उसे फ़साने की कोशिश कर आरोपी को बचने जाने की बात पीड़िता ने कही थी |

आज अगर उन्नाओ पीड़िता के साथ लोग खड़े होते तो उनके साथ ये हादसा नहीं हो पाता पर हमारे देश के कुछ असामाजिक मानसिकता के लोग जो किसी एक जाती या धर्म विशेष को लेकर आरोपी या गुन्हेगार के साथ खड़े हो जाते है जो देश में महिलाओ की शुरक्षिताओ के लेकर काफी गंभीर बात दिखाई देती है | आज उन्नाओ रपे पीड़िता अस्पताल में ज़िन्दगी और मौत के बिच से जुज रही है उसके कही न कही वह लोग भी दोषी है जो कल तक कुलदीप सेंगर को रपे के आरोप से बचा रहे थे |