Shiv Sena - महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शाशन लगाने के लिए भाजपा की पहले से ही थी शाजि
Shiv Sena – महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शाशन लगाने के लिए भाजपा की पहले से ही थी शाजि

जो भाजपा पुरे देश में अपने जोड़ तोड़ की नीतियों के वजहसे जानी जाती थी आज वह खुद ही इसी का शिकार हो चुकी है | बात करे अगर महाराष्ट्र में हो रही राजनीती की तो वह पर दिखाई दे रहा है के सभी लोग सिर्फ मुख्यमंत्री की कुर्सी के पीछे भाग रहे है | एक तरफ भाजपा की 40 साल पुराणी दोस्ती को Shiv Sena ने तोड़ दिया और दूसरी तरफ महाराष्ट्र में 70 सालो में पहेली बार राष्ट्रपति शाशन लगाया गया |

Shiv Sena का कहना है के महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शाशन लगवाकर भाजपा ने दिया जनता को धोखा…

हाल ही के दिनों में हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानभा के चुनाव नतीजे आये | जिसके नतीजों के बाद हरियाणा में JJP जो खुद भाजपा की विरोधी पार्टी थी | उसने भाजपा के साथ मिलकर गठबंधन कर लिया और जनता को धोखा दे कर भाजपा के साथ सत्ता में ताबूत हो गयी | वही महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना का 40 साल पुराण गठबंधन टूट चूका है | और भाजपा के साथ अगर शिवसेना सरकार बना लेती तो आज महाराष्ट्र में फिरसे भाजपा और शिवसेना की सरकार बन जाती |

पर आज महाराष्ट्र के हालत कुछ अलग ही दिखाई दे रहे है | भाजपा सत्ता की कुर्सी पर बैठने के लिए वह हर संभव प्रयास किये जो शायद देश के लिए बोहत घातक साबित हुवे | उसी के नक्शेकदम पर चल कर भाजपा को खुद उसकी सहियोगी पार्टी शिवसेना ने ही धोखा देकर आज उससे दुरी बना ली साथ ही उनकी पार्टी के केंद्र में बैठे हुवे नेता ने भी उस पद से इस्तीफा देकर भाजपा से अलग हो गए |

अशोक गेहलोत – जब तक महिला घुघट में छुपी रहेंगी तब तक वह आगे नहीं बढ़ पाएंगी…

अगर भाजपा के शिवसेना के प्रति रुख देखा जाए तो यह सामने दिखाई देता है के भाजपा ने हमेशा शिवसेना को धोखा ही दिया है | धोखे के अलावा भाजपा ने कुछ नहीं दिया है | बात करे अगर कर्णाटक की तो शायद आप सभी को पता ही होंगे के कर्णाटक में कैसे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रातो रात कांग्रेस और JDS (जनता दाल सेक्युलर) के कही सरे नेताओ को पैसो की भरी रक्कम दे कर उनको जबरन इस्तीफा देने के लिए मजबूर करवा दिया गया | और साथ ही उन्होंने काफी बड़ी रिश्वतखोरी और भष्ट्राचारी भी की |

वही गोदी मीडिया कर्णाटक में चल रहे खरीद फ़िरोतियो को भाजपा की मास्टर स्ट्रोक कह कर हल्ला मचा रही थी | साथ ही भारत की गिरी हुवी मीडिया भाजपा के भर्ष्टाचार एवं रिश्वत खोरी को प्रोत्शाहन करते TV पैट नज़र आयी | और आज जैसे ही शिवसेना ने भाजपा के साथ गठबन्धा तोड़ दिया वैसे ही गोदी मीडिया ने शिवसेना को देशद्रोही का सर्टिफिकेट दे दिया |

इसमें कोई दो रहे नहीं है के भाजपा और शिवसेना दोनों को सिर्फ कुर्सी के मतलब है | वही कांग्रेस और NCP का बहुमत से दूर दूर तक नाता न होने के कारण से अभी तक मुखयमंत्री पद के लिए कुछ भी नहीं कहा | अब इसमें सवाल यह भी उठता है के अगर फिरसे इलेक्शन होते है तो भाजपा को क्या उससे ज्यादा सीट्स नहीं मिलेंगी ? EVM के वजहसे ? वही अगर भाजपा के साथ शिवसेना ने चुनाव से पहले गठबंधन न किया होता तो शायद ही शिवसेना की इतनी सीट्स निकल पाती |

शिवसेना – कश्मीर हमारा आंतरिक मामला है फिर EU के सांसदों को केंद्र सरकार क्यों बिच में घसीट रही है ?

सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में लगे राष्ट्रपति शाशन को ६ महीने तक लगाने की घोषणा की है | अब इसमें क्या भरोसा है के महाराश्ट्र में कल जा कर शिवसेना कांग्रेस या NCP के नेता भाजपा को समर्थन दे दे | और साथ ही ये बात सभी को पता है के भाजपा आने वाले 6 महीनो में जोड़ तो करके, भर्ष्टाचार करके विरोधी पार्टियों के विधायकों को अपने तरफ खींच लेंगे | और अगर ये सब को पीछे रख फिरसे चुनाव की प्रक्रिया होती है तो इसमें EVM के वजहसे भाजपा को कोई भी नहीं हरा पाएंगा अब आगे आगे देखना होगा के क्या होता है अब महाराष्ट्र के राजनीती में |