Sanjay Raut - अजित पवार को 2.5 साल के CM पद का झूठा ऑफर दिया है भाजपा न
Sanjay Raut – अजित पवार को 2.5 साल के CM पद का झूठा ऑफर दिया है भाजपा न

आप सभी को पता होंगे के शिवसेना और भाजपा का साथ कितना पुराना था | उसके बाद भी शिवसेना को भाजपा ने हमेशा अपने से पीछे ही रखा है | साथ ही हमेशा से यह कहा गया है के शिवसेना और भाजपा की विचारधारा एक जैसी हिंदुत्व वाली है | पर कुछ कारण से शिवसेना और भाजपा जो कल तक एक साथ थी वह आज अलग्ग हो चुकी है | और वह अब एनसीपी और कांग्रेस के साथ सरकार गठन के लिए सहमत हो चुकी है | पर NCP के वरिष्ठ नेता अजित पवार ने रातो राज जा कर भाजपा के साथ गठबंधन कर महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है | वही मीडिया में ये बात चालू है के उनको 2.5 साल का मुख्यमंत्री पद देने की भाजपा ने बात की है जिसे शिवसेना के नेता Sanjay Raut ने ख़ारिज कर दिया है |

Sanjay Raut ने अजित पवार के 2.5 साल के मुख्यमंत्री बनने की बात को इस वजहसे खारिज किया …

अभी शिवसेना कही न कही ये जान चुकी है के भाजपा सिर्फ उनके कंधे पर बन्दुक रख कर सत्ता की रोटी सकती आ रही थी | और आज ये शिवसेना के अस्तित्व बचने की लड़ाई है जिसमे शिवसेना का कहना हैं के चुनाव के पहले भाजपा और शिवसेना में बात हुवी थी के दोनों पार्टियों का मुख्यमंत्री 2.5 – 2.5 साल के लिए रहेंगे | जिसे भाजपा ने चुनाव के बाद इंकार कर दिया और शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाने से भाजपा ने मना कर दिया है | इसी वजहसे शिवसेना ने अपना गठबंधन शिवसेना के साथ तोड़ कर कांग्रेस और NCP के साथ सरकार बनाने का दवा किया है |

शिवसेना के नेता संजय राउत का कहना है के इतने साल से भाजपा और शिवसेना एक साथ है और इसके बाद भी शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाने की बात को भाजपा ने अस्वीकार किया था | तो आज एकदम से कैसे भाजपा NCP के अजित पवार को महाराष्ट्र 2.5 साल का मुख्यमंत्री बनाने के लिए सहमत हो गयी ?? साथ ही संजय राउत ने ये भी कहा के यह भाजपा की चाल है के अजित पवार पर दबाव डाल कर भाजपा सिर्फ सत्ता को हथियाना चाहती है |

मुख्यमंत्री की शपथ लेने के बाद क्या बहुमत साबित कर पाएंगे देवेंद्र फडणवीस ?

हम आपको बता दे के आज 25 नवंबर को शिवसेना, कांग्रेस और NCP राजभवन में अपने विधकायो के समर्थन का दवा करने वाली चिठ्ठी पेश कर सकते है | वही आज सुप्रीम कोर्ट में रविवार 25 नवंबर के आदेशानुसार जो केंद्र सरकार से महाराष्ट्र सरकार गठन और राष्ट्रपति शाशन के हटाने वाली चिट्ठी को पेश किया गया जिसमे इस बात पर अभी भी बहस हुवी | सुप्रीम कोर्ट अब इस मुद्दे पर कल सुबह 10:30 बजे सुनवाई करेंगी | अब देखना होंगे के महाराष्ट्र के राजनीती में आगे आगे क्या होता है और साथ ही सरकार किसकी बनती है ये देखने वाली बात है |