Ashok Gehlot on women Empowerment - जब तक महिला घुघट में छुपी रहेंगी तब तक वह आगे नहीं बढ़ पाएंगी
Ashok Gehlot on women Empowerment – जब तक महिला घुघट में छुपी रहेंगी तब तक वह आगे नहीं बढ़ पाएंगी

राजस्तान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सामाजिक महिला शशक्तिकरण (Ashok Gehlot on women Empowerment) के कार्यक्रम में कहा के जब तक महिलाये घुघट में रहेंगी तब तक वह आगे नहीं बढ़ पाएंगी | साथ ही उन्होंने कहा के घूँघट ओढ़ने वाली प्रथा अब पुराने ज़माने के साथ चली गयी है | आज के वक़्त में सभी महिलाओ को आगे बढ़ने की दिशा में रहना चाहिए | घूँघट जैसी प्रथा को छोड़ आपको अपने भविष्य को सुनेहरा करके देश का नाम रोशन करना चाहिए |

Ashok Gehlot on women Empowerment – अशोक गहलोत ने महिला शशक्ति कारन पर यह कहा..

घुघट एक ऐसा रिवाज है जो देश की महिलाओ को आगे नहीं बढ़ने देता | साथ ही उनको स्वतन्त्र से जीने के लिए सामाजिक बंधन में रखता है | साथ ही उन्होंने राजस्थान में हो रहे बाल विवाह पर भी चर्चा की | और कहा के बाल विवाह एक घोर अपराध है | आप का कोई हक़ नहीं है के आप अपने बेटी का बाल विवाह करके उनकी ज़िन्दगी को नर्क बना दो | उनके भी कुछ सपने है जिनको वह पूरा करना चाहती है |

अशोक गहलोत ने मंच से यह भी कहा के महिलाओ को जब भी किसी प्रकार की मदत लगे सरकार उनके मदत में हमेशा तैयार रहेंगी | साथ ही उनकी जितनी हो सके उतनी सहायता कर महिलाओ का भविस्य साकार करने में हमेशा उनकी मदत करने के लिए तैयार कड़ी दिखेंगी |

अगर कोई भी महिला किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ने की कोशिश करेंगी तो हमारी सरकार हमेशा उनकी सहायता के लिए उनके पीछे रहेंगी | तथा उनकी जितनी भी मदत हम कर सके उतनी मदत हम जरूर करेंगे ऐसा कहकर अशोक गहलोत ने महिलाओ को आगे बढ़ने के लिए उनका होशला बढ़ाया |

सामाजिक महिला के कार्यक्रम ने पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी का भी उद्धरण दिया | और उन्होंने कहा के आप के लिए इंदिरा गाँधी के मिसाल है | उन्होंने 17 साल तक देश को एक सफल नेतृत्व किया | और साथ ही उन्होंने पाकिस्तान के २ टुकड़े कर बांग्लादेश को बना दिया | और साथ ही पाकिस्तानी कर्नल, जनरल , से लेकर सभी 93000 फौजी को भारत के सामने घुटने टेकने को मजबूर कर दिया था |

पायल रोहतगी के खिलाफ नेहरू परिवार पर अपटुजनक टिपण्णी करने पर पुलिस ने किया मामला दर्ज

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने भाषण में बताया के हाल ही में एक जनसुनिवाई के दौरान के लड़की उनसे मिलने आयी थी | और उसका कहना था के उनका जबरन बाल विवाह करना चाहते है उसके घर वाले | उन्होंने तुरंत अपने अधिकारियो को लड़की के साथ भेजा और कहा के जो भी इसकी जबरन शादी करने की कोशिश करेंगे उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो | और साथ ही उन्होंने लड़की से यह भी कहा के वह अगर पढ़ना चाहती है तो सरकार उसकी पूरी मदत करेंगी |

बाल विवाह और घुघट प्रथा जैसे अंधविश्वाशी तत्वों का उन्होंने भाषण में विरोध करने को कहा | साथ ही उन्होंने कहा के डायन प्रथा तथा बाल विवाह प्रथा देश के लिए काफी निंदनीय है | साथ ही इन दो सामाजिक अंधविश्वासी प्रथाओं की वजहसे देश के उनत्ति में समाजित बंधन आ जाता है | जिसके वजहसे देश की महिलाओं के तरक्की में बांधने आ जाते है |