Ajit Pawar के डिप्टी CM बनते ही ACB ने उनको 70,000 करोड़ वाले घोटाले से क्लीन
Ajit Pawar के डिप्टी CM बनते ही ACB ने उनको 70,000 करोड़ वाले घोटाले से क्लीन

आप सभी को पता ही होंगे के महाराष्ट्र में अब नई सरकार का गठन हो चूका है और महाराष्ट्र के मुयख्यमंत्री के तौर पर फिरसे एक बार देवेंद्र फडणवीस ने शपथ ले ली है और इसके साथ महाराष्ट्र के नए डिप्टी CM अजित पवार बन चुके है | हालांकि इस नई सरकार ने अभी तक अपना बहुमत साबित नहीं किया है | पर फिर भी अगर देखा जाये तो आज की तारीख में महाराष्ट्र में BJP की सरकार बनी हुवी है | वही Ajit Pawar के उप्पेर जो 70,000 करोड़ के घोटाले के आरोप लगे थे जिसका भाजपा ने बोहत जोर शोर से प्रचार कर दिया था उनको अब उसमे (ACB) के तरफ से क्लीन चिट मिल चुकी है |

किस वजहसे Ajit Pawar पर 70,000 के घोटाले का आरोप लगा था ?

2018 में महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने 70,000 करोड़ के सच्चाई घोटाले में जिम्मेदार ठैराया था | अब उसी मामले में उन्हें ACB ने बेगुनाह करार दे दिया | जबकि इस घोटाले के नाम पर विरोधी पार्टी भाजपा ने खुप शोर मचाया तथा इस घोटाले को लेकर उनको काफी ज्यादा बदनाम किया | जब इस घोटाले को महाराष्ट्र भष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सामने लाया तब उन्होंने बताया के यह घोटाला कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस के साझेदारी वाली सरकार वक़्त हुवा था | और उस वक़्त 70,000 करोड़ के सिंचाई घोटाले के मुख्या आरोपी के रूप महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार को ब्यूरो ने ज़िम्मेदार ठैराय था |

सोचने वाली बात है के कल तक जिस घोटाले में अजित पवार का नाम लेने वाली भाजपा आज उनके सरकार में उपमुख्यमंत्री बनते ही 48 घंटो में वह घोटाले से मुक्त कैसे हो गए ? देवेंद्र फडणवीस ने पिछले वक़्त कहा था के चाहे हमें विपक्ष में क्यों नहीं बैठना पड़े पर हम NCP के साथ नहीं जायेंगे उन्होंने अचानक ही रातोरात सरकार बना ली | वैसे आज कल तो ऐसा नियम ही बनते दिखाई दे रहा है देश में के जो भी भाजपा का विरोध करेंगा वह किसी न किसी घोटाले का आरोपी कहलाएंगा और जो भी गुनेहगार भाजपा से हाथ मिलाएंगे वह सच्चा देश भक्त बन जाएगा |

संजय राउत – अजित पवार को 2.5 साल के CM पद का झूठा ऑफर दिया है भाजपा ने, पढ़िए पूरी खबर

जैसे हरियाणा में दुष्यंत चौटाला के उप मुख्यमंत्री बनते ही उनके पिता जेल से बरी हो गए थे वैसे ही महाराष्ट्र में भी अजित पवार के भाजपा के साथ हाथ मिलाने के बाद उपमुख्यमंत्री बनते ही उनको भी 70,000 करोड़ के घोटाले से मुक्ति मिल गयी है | इस सब में ये साफ़ साफ़ दिख रहा है के जो भी सत्ताधारी पार्टी के खिलाफ जाएगा उसे सरकार किसी भी आरोप में फसा देंगी और अगर गगलति से भी सरकार से वह आरोपी हाथ मिला ले तो वह सभी आरोपों से मुक्त हो जाएगा और एक सच्चा देश भक्त कहलाएंगा |

क्या 2017 से जेल में बंद लालू प्रसाद यादव के बेटो ने अगर बिहार में भाजपा के साथ नितीश कुमार के जग्गाह हाथ मिला दिया तो इसमें कोई दो रहे नहीं है के लालू प्रसाद यादव जेल से बहार छूट जायेंगे और नितीश कुमार को भाजपा किसी न किसी आरोप में जेल में दाल कर उनको देश द्रोही या हत्यारा साबित करने में पूरी तरह से कामियाब हो जाएँगी | भाजपा का ऐसा व्यवहार भारत के लोकतंत्र के लिए काफी ज्यादा खतरनाक दिखाई दे रहा है |